हाइवे से अधिक महत्वपूर्ण होंगे आईवे: दूरसंचार सचिव

0

आम जनता को स्वास्थ्य व शिक्षा सहित अन्य बुनियादी सेवाओं की आपूर्ति में इंटरनेट के बढ़ते इस्तेमाल के बीच एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी ने आज कहा कि आने वाले दिनों में इंटरनेट राजमार्ग यानी आईवे, राष्ट्रीय सड़क राजमार्गों (हाइवे) से अधिक महत्वपूर्ण होंगे।दूरसंचार विभाग में सचिव अरूणा सुंदरराजन ने यहां एक कार्यक्रम में यह बात कही। उन्होंने कहा कि देश को आईवे के लिए एक राष्ट्रीय योजना की जरूरत है और सरकार व अन्य भागीदारों को इस दिशा में सोचते हुए पहल करनी चाहिए।यहां आईवे से आशय देश भर में सड़कों की तर्ज पर आप्टिक्ल फाइबर का जाल बिछाना है ताकि दूरदराज के इलाकों तक भी हाईस्पीड इंटरनेट की उपलब्धता सुनिश्चित की जा सके।

सुंदरराजन ने कहा, ‘हमें यह स्वीकार करना होगा कि आने वाले दिनों में डिजिटल आईवेज पारंपरिक रोडवेज/हाइवे से भी अधिक महत्वपूर्ण साबित होने जा रहे हैं।’ देश में इंटरनेट व मोबाइल डेटा के बढ़ते इस्तेमाल तथा अर्थव्यवस्था व आर्थिक विकास में इसके योगदान को रेखांकित करते हुए सुंदरराजन ने कहा, ‘दशकों से हम यह गिनती करते रहे हैं कि कितने किलोमीटर नये राजमार्ग बने लेकिन शायद अब समय आ गया है कि हम यह गिनना शुरू कर दें कि कितने किलोमीटर नई आप्टिक्ल फाइबर बिछाई गई।’ उन्होंने कहा-चाहे स्मार्ट शहर जैसी महत्वाकांक्षी परियोजना हो या आम लोगों को शिक्षा व स्वास्थ्य जैसी बुनियादी सेवाएं सुनिश्चित सेवा करने का सवाल .. आप्टिक्ल फाइबर तथा फाइबराइजेशन बहुत ही महत्वपूर्ण है। सचिव ने देश के विकास व वृद्धि में ‘फाइबर फर्स्ट’ की सोच को अपरिहार्य बताया और कहा कि केंद्र सरकार, राज्य सरकारों, स्थानीय निकायों, उद्योग जगत व उद्योग मंडलों सहित अन्य भागीदारों को इस दिशा में मिलकर काम करना चाहिए।उन्होंने कहा कि हमें 2020 तक देश में दूरसंचार पहुंच को दोगुना करना होगा और इसके लिए फाइबर ही एकमात्र समाधान व जरूरत है।

सचिव ने बताया कि ग्राम पंचायतों को ब्राडबैंड से जोड़ने की महत्वाकांक्षी भारतनेट परियोजना का पहला चरण इस साल दिसंबर तक पूरा हो जाएगा और 83000 ग्राम पंचायतों को अब तक आप्टिक फाइबर नेटवर्क से जोड़ा जा चुका है।

NewsSource: पीटीआई-भाषा 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here